Crictoday Hindi.

क्या 'दिग्गज' बेन स्टोक्स बतौर कप्तान इंग्लैंड टीम की नैया पार लगा पाएंगे?  

Shadab Ali Updated: 11 July, 2020, 10:16 AM IST

वेस्टइंडीज के खिलाफ तीन मैचों की टेस्ट सीरीज के पहले मुक़ाबले में दिग्गज ऑलराउंडर बेन स्टोक्स इंग्लैंड क्रिकेट टीम की कमान संभाल रहे हैं, क्योंकि नियमित कप्तान जो रुट बेटे के जन्म की वजह से अपनी पत्नी के साथ हैं, इसलिए वे अंग्रेजी टीम को अपनी सेवाएं नहीं दे पा रहे हैं, लेकिन रूट के अगले टेस्ट मैच से पहले तक वापस लौटने की पूरी उम्मीद है.

अब सवाल यह उठता है कि क्या बेन स्टोक्स बतौर कप्तान अपनी टीम की नैया पार लगा पाएंगे? या फिर एक कप्तान के तौर पर स्टोक्स अभी नए हैं, इसलिए क्या उन्हें इस पद पर खुद को ढालने में समय लगेगा? हमें इसका जवाब तलाशने के लिए अनुसंधान करना होगा तो आइये जानते हैं स्टोक्स के बारे में कुछ महत्वपूर्ण बातें, जो उन्हें एक शानदार खिलाड़ी साबित करती हैं - 

ज़बरदस्त ऑलराउंडर 

दाएं हाथ के दिग्गज ऑलराउंडर बेन स्टोक्स ने पिछले कुछ समय में अपनी टीम के लिए शानदार प्रदर्शन किया है. स्टोक्स ने इंग्लैंड के लिए बल्ले से कई बड़ी पारियां खेलीं हैं तो गेंद से भी टीम को कई अहम मौकों पर सफलताएं दिलाई हैं. अगर उनके अभी तक के हरफनमौला प्रदर्शन पर नज़र डाली जाए तो उन्होंने 63 टेस्ट में 4056 रन, 95 वन डे में 2682 रन और 26 टी20 मुकाबलों में 305 रन बटोरे हैं. स्टोक्स ने इन सभी प्रारूपों में क्रमश: 147, 70 और 14 विकेट भी हासिल किए हैं. इस समय स्टोक्स दुनिया के सबसे बेहतरीन ऑलराउंडर में से एक हैं. 

मैच विनर खिलाड़ी 

बेन स्टोक्स ने पिछले साल आईसीसी विश्व कप 2019 में अपने शानदार प्रदर्शन के बलबूते इंग्लैंड को पहला खिताब दिलाने में अहम भूमिका निभाई थी. स्टोक्स ने विश्व कप के 11 मैचों में 66.42 के औसत से 465 रन बनाए थे, जिसमें 5 अर्धशतक शामिल थे. उन्होंने अपनी टीम के लिए 7 विकेट भी चटकाए थे. इतना ही नहीं वे फील्डिंग में भी काफी शानदार रहे थे. स्टोक्स ने कई मौकों पर शानदार कैच भी पकड़े हैं.

29 साल के स्टोक्स ने एशेज सीरीज 2019 में भी अपनी टीम के लिए सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया था. उन्होंने दस पारियों में 2 शतक और 2 अर्धशतकों के साथ 441 रन बनाए थे. वहीं, गेंदबाजी करते हुए स्टोक्स ने कुल 8 विकेट अपनी झोली में डाले. इस ज़बरदस्त हरफनमौला प्रदर्शन के लिए उन्हें मैन ऑफ़ द सीरीज भी चुना गया. बता दें कि यह सीरीज 2-2 से बराबर रही थी. 

दर्ज हैं कई बड़े रिकॉर्ड्स

अंग्रेजी टीम के ऑलराउंडर बेन स्टोक्स के नाम अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में कई बड़े रिकॉर्ड्स दर्ज हैं. उन्होंने वेस्टइंडीज के खिलाफ मौजूदा टेस्ट में भी एक बड़ी उपलब्धि हासिल कर ली है. याद दिला दें कि साउथम्पटन टेस्ट में स्टोक्स इंग्लैंड की कप्तानी भी कर रहे हैं. स्टोक्स टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में 4000 से ज्यादा रन और 150 से अधिक विकेट चटकाने का डबल धमाका करने वाले विश्व के छठे  ऑलराउंडर बन गए हैं.

इतना ही नहीं इससे पहले उन्होंने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट मैच की एक पारी में सर्वाधिक कैच पकड़ने का रिकॉर्ड भी बनाया था. स्टोक्स इस साल जनवरी में केपटाउन टेस्ट की एक पारी में पांच कैच पकड़कर इंग्लैंड के पहले फील्डर बने थे. यहां ता कि वे टेस्ट में पिछले साल सर्वाधिक रन बनाने वालों के मामले में पांचवें स्थान पर थे. स्टोक्स ने साल 2019 में 11 टेस्ट की 21 पारियों में 45.61 की औसत के साथ 821 रन बटोरे थे. इसके अलावा भी स्टोक्स के नाम कई बड़े रिकॉर्ड्स दर्ज हैं. 

साल 2019 में कई पुरस्कारों से हुए सम्मानित 

वर्तमान समय में विश्व के सबसे बेहतरीन ऑलराउंडर बेन स्टोक्स को सर गारफील्ड सोबर्स ट्रॉफी: क्रिकेटर ऑफ द ईयर के अवॉर्ड से सम्मानित किया गया था. इतना ही नहीं वे आईसीसी की ODI टीम ऑफ़ द इयर में भी शामिल हुए थे. यहां तक कि स्टोक्स आईसीसी की 2019 की टेस्ट टीम का भी हिस्सा बने थे. यह दर्शाता है कि बेन स्टोक्स बतौर कप्तान भी अपनी टीम को काफी आगे तक ले जा सकते हैं.  

यह भी पढ़ें -

सचिन ने स्टोक्स के बारे में कह डाली ऐसी बात कि अंग्रेजी ऑलराउंडर की हर तरफ हो रही तारीफ

Get Daily Updates From CricToday

Subscribe and get the latest Sports News delivered to your inbox.

IPL 2020 - इन सुधार और बदलाव की मदद से धोनी फिर से हासिल कर सकते हैं अपनी फॉर्म

CT Contributor Updated: 30 September, 2020, 6:52 PM IST

इंडियन प्रीमियर लीग के 13वें सीजन का आगाज जब हुआ था, तो फैंस को करीब 14 महीने बाद मैदान पर वापसी करने वाले महेंद्र सिंह धोनी से काफी उम्मीदें थी, लेकिन धोनी उस तरह का खेल अपने बल्ले और कप्तानी से अभी तक नहीं दिखा पाएं हैं, जिसके लिए वह जाने जाते हैं।

चेन्नई सुपर किंग्स ने अभी तक IPL 2020 में 3 मैच खेले हैं, जिसमें उसे 1 जीत और 2 हार का सामना करना पड़ा है। इन तीनों मैचों में धोनी की बैटिंग पॉजिशन सबसे ज्यादा चर्चा का विषय रहा है। पहले दो मैचों में धोनी 7वें नंबर पर बल्लेबाजी करने उतरे, जबकि तीसरे मैच में वह छठे नंबर पर मैदान में आए। इन तीनों ही मैचों में धोनी ने कम अनुभवी खिलाड़ियों को अपने से ऊपर बैटिंग पॉजिशन पर भेजा जिसके लिए उनकी काफी आलोचना हुई। यही नहीं, IPL 2020 में धोनी अब तक बल्ले के साथ-साथ कप्तानी से भी प्रभाव छोड़ने में नाकाम रहे है। फिर चाहें बात हो डीआरएस लेने की या फिर टॉस के बाद बैटिंग-बॉलिंग चुनने की।

पिछले तीन मैचों में धोनी की तरफ से जिस तरह का प्रदर्शन देखने को मिला है, उससे ये बात तो साफ जाहिर है कि लंबे समय बाद मैदान पर वापसी करते हुए उन्हें लय हासिल करने में थोड़ी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे में हो सकता है कि धोनी मैच दर मैच अपने प्रदर्शन में सुधार कर लें, लेकिन इस सीजन टीम को प्लेऑफ तक पहुंचाने के लिए उन्हें समय के साथ कई कठोर कदम उठाने को भी मजबूर होना होगा।

हम सभी जानते हैं कि महेंद्र सिंह धोनी क्रिकेट के सबसे बड़े फिनिशर हैं और पिछले 10 सालों में वह इस बात को साबित भी कर चुके हैं। लेकिन इस समय IPL में जिस तरह वह छठे या 7वें नंबर पर बल्लेबाजी करने उतर रहे हैं, वह टीम की मुश्किलें बढ़ाने वाला है।

दरअसल, इस आईपीएल में धोनी जब भी बल्लेबाजी करने उतरते हैं, तो उनके पासे खेलने के लिए ज्यादा गेंदें बची नहीं होती हैं, जिससे उन पर दवाब काफी बढ़ जाता है। इस स्थित में वह उस तरह का प्रदर्शन नहीं कर पाते हैं जिसकी उनसे उम्मीद की जाती है।

ऐसे में अगर धोनी को इस आईपीएल में छाप छोड़नी हैं तो उन्हें जल्द से जल्द अपनी बैटिंग पॉजिशन को ऊपर करना होगा ताकि वह टीम के प्रदर्शन में ज्यादा से ज्यादा योगदान दे सके। IPL में धोनी के प्रदर्शन पर नजर डालें, तो चेन्नई के कप्तान ने नंबर 5 पर बल्लेबाजी करते हुए सबसे ज्यादा 1803 रन बनाए हैं। इस दौरान उनका स्ट्राईक रेट 145.87 और औसत 50 से ज्यादा का रहा है। वहीं, छठे नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए धोनी ने 36.50 की औसत और 125.27 की स्ट्राईक रेट से 803 रन बनाए हैं। 7वें नंबर पर धोनी का औसत भले ही 58 से ज्यादा का है लेकिन उनका स्ट्राईक रेट 126 के करीब है। इन आंकड़ो से साफ जाहिर होता है कि धोनी के लिए कौन सी बैटिंग पॉजिशन ज्यादा सही है।

बैटिंग पॉजिशन के अलावा इस सीजन धोनी की सबसे बड़ी मुश्किल टीम काम्बिनेशन है। सुरेश रैना और हरभजन सिंह की गैरमौजूदगी में धोनी के लिए बेस्ट प्लेइंग इलेवन को चुनना काफी मुश्किल बना दिया है। अबातिं रायुडू की चोट और ब्रावो के फिट न होने से धोनी परेशानी और भी बढ़ गई है। ऐसे में धोनी को जल्द से जल्द प्लेइंग इलेवन को लेकर कड़े फैसले लेने होंगे ताकि मैच और विकेट की परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए वह बेस्ट प्लेइंग इलेवन का चुनाव कर सकें। साथ ही उन्हें जरूरत से ज्यादा बैटिंग पॉजिशन में प्रयोग करने पर भी लगाम लगानी होगी।

IPL 2020 में धोनी में उस आत्मविश्वास की कमी भी दिखाई दी है जो उन्हें बाकी कप्तानों से अलग बनाती थी। मुंबई के खिलाफ पहले मैच में डीआरस का सही न होना इस बात का संकेत है कि जिस चीज में वह माहिर है, वही उनका साथ नहीं दे रही है। ऐसे में उन्हें मैच के दौरान अहम फैसले लेते समय साफ नजरिये रखने की जरुरत है।

IPL 2020, MI बनाम KXIP : क्या हो सकती है मुंबई इंडियंस और किंग्स इलेवन पंजाब की प्लेइंग इलेवन?

CT Contributor Updated: 30 September, 2020, 6:40 PM IST

IPL 2020 का 13वां दिन और 13वां  मैच - 1 अक्टूबर को अबु धाबी में आमने - सामने होंगी वे दोनों टीम जो वास्तव में छटपटा रही हैं क्योंकि किस्मत साथ नहीं दे रही। अब आपसी मुकाबले में देखें कौन बाज़ी मारेगा? दोनों टीम ने अपने 3-3 मैच में से सिर्फ 1-1 मैच जीता है, जबकि थोड़ा सा जोर इनका रिकॉर्ड एकदम बदल देता। 

किंग्स इलेवन पंजाब ने जो दो मैच हारे उनमें से एक में अंपायर की गलती भारी पड़ गई और सुपर ओवर में हारे जबकि दूसरी हार 223 रन जुटाने के बावजूद हार मिल गई। +1.498 का NRR बाकी की हर टीम से बेहतर है। इसका मतलब है टीम फॉर्म में है और उसमें दम है। अभी पासा पलट सकता है। 

मुंबई इंडियंस को पहली हार सीजन ओपनर में मिली। संयोग देखिए कि मुंबई इंडियंस ने भी उनकी तरह से टाई मैच खेला और सुपर ओवर में हारे। +0.654 के  NRR ने उन्हें अंक तालिका में किंग्स इलेवन पंजाब से नीचे रखा है। इसलिए ये अंदाजा लगाना मुश्किल नहीं कि दोनों के लिए बड़ा ख़ास है ये मैच क्योंकि हर गलती अब भारी पड़ेगी, जो हो गया उसे भूलो और इसे जीतो। 

देखें दोनों टीम के कैंप से क्या खबर आ रही है?

किंग्स इलेवन पंजाब : उनके टॉप बल्लेबाज़ ऐसे जम कर खेल रहे हैं कि पीछे तीनों मैच में क्रिस गेल को मौका नहीं दिया। अब वे खेल सकते हैं पर उसके लिए ग्लेन मैक्सवेल को निकलना पड़ेगा। यहां टीम के थिंक टैंक को सोचना होगा। 

कमी है तो गेंदबाज़ी में क्योंकि रन लीक हो रहे हैं। शेल्डन कॉटरेल और मोहम्मद शमी भी रन बनना रोक नहीं पाए RR वाले मैच में। कप्तान केएल राहुल को उम्मीद है कि गेंदबाज़ी मुस्तैद होगी। कैंप से जो संकेत है उसके हिसाब से क्रिस जोर्डन वापसी करेंगे जेम्स नीशाम की जगह। जोर्डन टी20 के माहिर हैं और ये साबित हो चुका है कि जोर के दौर में किसी भी गेंदबाज़ की प्रतिष्ठा की खैर नहीं। अबु धाबी की पिच के धीमेपन के कारण वे मुरुगन अश्विन की जगह मुजीब उर रहमान को खिलाना चाहेंगे पर विदेशी होने के नाते जगह नहीं बनेगी। 
 
मैच के लिए किंग्स इलेवन पंजाब के आखिरी 11 ये हो सकते हैं : केएल राहुल (कप्तान), मयंक अग्रवाल, क्रिस गेल, निकोलस पूरन, करुण नायर, क्रिस जोर्डन, सरफराज खान, मोहम्मद शमी, शेल्डन कॉटरेल, रवि बिश्नोई, मुरुगन अश्विन।

मुंबई इंडियंस : वे इस ग्राउंड में दो मैच खेल चुके हैं और इसका फायदा उनके गेंदबाज़ों को मिलेगा। इनकी टीम बैलेंस है, जिन बदलाव का संकेत है वह हैं जेम्स पैटिनसन की जगह नाथन कूल्टर-नाइल और क्विंटन डी कॉक की जगह क्रिस लिन का खेलना। 
 
मैच के लिए मुंबई इंडियंस के आखिरी 11 ये हो सकते हैं : रोहित शर्मा (कप्तान), क्रिस लिन, सूर्यकुमार यादव, इशान किशन, हार्दिक पांड्या, कीरोन पोलार्ड, क्रुणाल पांड्या, नाथन कूल्टर-नाइल, राहुल चाहर, ट्रेंट बोल्ट, जसप्रीत बुमराह।

IPL 2020 - SRH के खिलाफ दिल्ली कैपिटल्स की हार के 3 सबसे बड़े कारण, पंत से हुई सबसे बड़ी गलती?

Shadab Ali Updated: 30 September, 2020, 12:30 AM IST

मंगलवार को अबू धाबी के शेख जायद स्टेडियम में खेले गए इंडियन प्रीमियर लीग 2020 के 11वें मुकाबले में सनराइजर्स हैदराबाद ने दिल्ली कैपिटल्स को 15 रनों से पराजित किया. एसआरएच ने पहले बल्लेबाजी करते हुए निर्धारिक 20 ओवरों में 4 विकेट खोकर 162 रन का स्कोर खड़ा किया, जिसके जवाब में दिल्ली कैपिटल्स ने पूरे ओवर खेलते हुए 7 विकेट के नुकसान पर 147 रन बनाए. मैच में सबसे बेहतरीन गेंदबाजी करने वाले हैदराबाद के स्टार लेग स्पिनर राशिद खान को मैन ऑफ़ द मैच चुना गया. उन्होंने 4 ओवरों में 14 रन देकर 3 बल्लेबाजों को अपना शिकार बनाया और साथ ही अपनी टीम की पहली जीत में अहम भूमिका भी निभाई. 

एसआरएच के लिए कप्तान डेविड वॉर्नर (45), जॉनी बेयरस्टो (53) और केन विलियमसन (41) ने शानदार पारियां खेलीं. वहीं, दिल्ली कैपिटल्स के लिए कगिसो रबाडा और अमित मिश्रा ने 2-2 विकेट हासिल किए. हालांकि, दिल्ली के बल्लेबाज हैदराबाद के गेंदबाजों के सामने ज्यादा ख़ास प्रदर्शन नहीं कर पाए. दिल्ली के लिए शिखर धवन (34) और ऋषभ पंत (28) ने सर्वाधिक रन बनाए, लेकिन अपनी टीम को जीत नहीं दिला पाए. अब हम दिल्ली कैपिटल्स की हार की तीन सबसे बड़ी वजह की बात करेंगे. तो आइये जानते हैं -

ऋषभ पंत का गैरजिम्मेदाराना रवैया 

बाएं हाथ के युवा विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत को अक्सर अहम मौकों पर कई बार अपना बेशकीमती विकेट गंवाते देखा गया है. इस बार भी उन्होंने गैरजिम्मेदाराना शॉट खेलकर विपक्षी टीम को तोहफा दिया. पंत ने 27 गेंदों पर 28 रन बनाए, जिसमें उन्होंने 2 छक्के और 1 चौका जड़ा. पंत को स्टार लेग स्पिनर राशिद खान ने अपनी फिरकी के जाल में फंसाया. पंत स्लॉग स्वीप खेलने के दौरान स्क्वायर लेग पर प्रियम गर्ग को कैच थमा बैठे, जब पंत आउट हुए तो दिल्ली का स्कोर 16.4 ओवर्स में 117 रन था. इस समय दिल्ली को जीत के लिए 20 गेंदों पर 47 की ज़रुरत थी, लेकिन पंत ने अपनी ज़िम्मेदारी नहीं समझी और बिना सोचे समझे एक गलत शॉट खेल बैठे. 

शिमरोन हेटमायर का आउट ऑफ़ फॉर्म होना 

वेस्टइंडीज के बाएं हाथ के विस्फोटक बल्लेबाज शिमरोन हेटमायर पिछले काफी समय से आउट ऑफ फॉर्म चल रहे हैं. वे अभी तक आईपीएल के 13वें संस्करण में बड़ा धमाका नहीं कर पाए हैं. शिमरोन हेटमायर ने 12 गेंदों पर 21 रन की पारी खेली, जिसमें उन्होंने 2 छक्के जड़े. उन्हें तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार ने मनीष पांडे के हाथों कैच आउट कराकर वापस पवेलियन की राह दिखाई. शिमरोन हेटमायर अभी तक अपनी लय में नहीं लौटे हैं. उन्हें ताबड़तोड़ बल्लेबाजी के लिए जाना जाता है. उन्होंने कई बार अपनी टीम को अकेले दम पर जीत दिलाई है. वे अगर फॉर्म में वापस लौटे तो किसी भी मैच का पासा पलट सकते हैं. 

शिखर धवन, श्रेयस अय्यर और ऋषभ पंत की धीमी बल्लेबाजी 

एसआरएच के खिलाफ दिल्ली कैपिटल्स की हार के सबसे बड़े कारणों में से एक बल्लेबाजों का धीमी गति से रन बनाना है, जहां सलामी बल्लेबाज शिखर धवन ने 31 गेंदों पर 34 रन, कप्तान श्रेयस अय्यर ने 21 गेंदों पर 17 रन और विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत ने 27 गेंदों पर 28 रन बनाए. इन तीनों की धीमी पारियों ने टीम पर दबाव बनाया और उनकी बल्लेबाजी ताश के पत्तों की तरह बिखरती चली गई. हालांकि, वे ऑल आउट नहीं हुए. अगर यहां तेज गति से रन बटोरे जाते तो शायद मैच का नतीजा कुछ और भी हो सकता था. 

IPL 2020, KKR बनाम RR : क्या हो सकती है कोलकाता नाइट राइडर्स और राजस्थान रॉयल्स की प्लेइंग इलेवन?

CT Contributor Updated: 29 September, 2020, 10:50 PM IST

अगर किसी एक टीम को IPL 2020 का 'सरप्राइज पैकेट' चुनने की बात आए तो यह लगभग तय है कि सबसे ज्यादा वोट राजस्थान रॉयल्स को मिलेंगे। 2 मैच में 2 जीत, 28 सितंबर तक अंक तालिका में नंबर 2, +0.615 का NRR और ऐसा लगता है अपनी सबसे बेहतर फॉर्म - तो और क्या चाहिए टीम को ? इसके उलट कोलकाता नाइट राइडर्स 2 में से 1 मैच जीत कर ज्यादा ख़राब हालत में नहीं है (28 सितंबर तक अंक तालिका में नंबर 6) पर ध्यान देने वाली बात ये है कि सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ मिली जीत में न तो गेंदबाज़ों और न ही बल्लेबाज़ों का कोई सख्त इम्तिहान हुआ। 300 रन भी नहीं बने उस पूरे मैच में और 7 विकेट गिरे। ऐसी IPL में, जिसमें 200 रन भी जीत की गारंटी नहीं बन रहे, कोलकाता नाइट राइडर्स को मुश्किल चुनौती के लिए अपने खेल को बहुत ऊपर उठाना होगा। सामने है राजस्थान रॉयल्स यानि कि दबंग टीम। एक बात और, कोलकाता नाइट राइडर्स ने अपने पिछले दोनों मैच अबु धाबी में खेले और राजस्थान रॉयल्स ने शारजाह में यानि कि ये दुबई में दोनों टीम का पहला मैच होगा।

अब देखते हैं दोनों टीम के कैंप से क्या संकेत आ रहे हैं ? राजस्थान रॉयल्स : क्या गज़ब फॉर्म है बल्लेबाज़ों की किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाफ 224 रन के रिकॉर्ड लक्ष्य को हासिल किया तथा दोनों मैच में 200+ का स्कोर बनाया। संजू सैमसन और राहुल तेवतिया इस IPL 2020 के स्टार बन गए हैं। कप्तान स्टीव स्मिथ बड़ी ज़िम्मेदारी के साथ 50+ के दो स्कोर बना चुके हैं। अब जॉस बटलर के बैट के चमकने का इंतज़ार है। कहने का मतलब ये कि टीम में बदलाव की कोई उम्मीद नहीं।

मैच के लिए राजस्थान रॉयल्स के आखिरी 11 ये हो सकते हैं : जॉस बटलर, स्टीव स्मिथ (कप्तान), संजू सैमसन, राहुल तेवतिया, रोबिन उथप्पा, जोफ्रा आर्चर, रेयान पराग, टॉम करन, श्रेयस गोपाल, अंकित राजपूत और जयदेव उनादकत। कोलकाता नाइट राइडर्स : खिलाड़ियों में बिजली बहती दिखाई दे रही है पर उसे चमकना होगा।

अब देखिए आंद्रे रसेल और इयान मॉर्गन जैसे अगर बल्लेबाजी के क्रम में नंबर 5/6 पर भेजे जाएंगे तो वे क्या कर लेंगे? चूंकि बड़े बड़े नाम हैं इसलिए उनका भी टॉप ऑर्डर नहीं बदलेगा, हां बल्लेबाज़ी का नंबर बदलेगा।

सुनील नरेन के सही रंग में आने का इंतज़ार है। हो ये रहा है कि ये टीम बैट से ज्यादा, गेंद से फॉर्म दिखाई दे रही है। इस मैच के लिए टीम में किसी बदलाव की गुंजाइश नहीं है। बस उनके खिलाड़ी ये समझ लें कि इस मैच तक सही फॉर्म हासिल करनी है।

मैच के लिए कोलकाता नाइट राइडर्स के आखिरी 11 ये हो सकते हैं : शुभमन गिल, सुनील नरेन, नितीश राणा, दिनेश कार्तिक (कप्तान ), इयोन मोर्गन, आंद्रे रसेल, पैट कमिंस, शिवम मावी, कुलदीप यादव, कमलेश नागरकोटी, वरुण चक्रवर्ती।

IPL 2020 - एमएस धोनी के उत्तराधिकारी ने 'दिग्गज विकेटकीपर बल्लेबाज माही' को लेकर क्या कहा?

Shadab Ali Updated: 29 September, 2020, 9:58 PM IST

राजस्थान रॉयल्स के दिग्गज विकेटकीपर बल्लेबाज संजू सैमसन ने चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को लेकर बड़ा बयान दिया है. सैमसन ने कहा कि धोनी की तरह कोई नहीं खेल सकता. इसके अलावा उन्होंने इस बात को भी स्पष्ट कर दिया है कि उनकी तुलना महान खिलाड़ी एमएस धोनी से नहीं की जानी चाहिए. गौरतलब है कि संजू सैमसन मौजूदा आईपीएल संस्करण में अपनी प्रचंड फॉर्म में चल रहे हैं. सैमसन ने अभी तक दोनों मैचों में तूफानी अर्धशतकीय पारियां खेलीं हैं. 

सैमसन ने खुद की तुलना धोनी से किए जाने पर कहा, "मैं यकीन के साथ कह सकता हूं कि धोनी की तरह कोई नहीं खेल सकता है, न ही किसी को उनकी तरह खेलने की कोशिश करनी चाहिए. धोनी की तरह खेलना बिल्कुल भी आसान नहीं है." 

दाएं हाथ के बल्लेबाज ने कहा, "मैं कभी धोनी की तरह खेलने के बारे में नहीं सोचता. वह भारतीय क्रिकेट के और इस खेल के दिग्गज हैं. मैं सिर्फ अपने खेल पर ध्यान देता हूं कि मैं क्या कर सकता हूं. मैं इसमें सर्वश्रेष्ठ कैसे कर सकता हूं और मैं मैच कैसे जीत सकता हूं."

गौरतलब है कि शारजाह में खेले गए आईपीएल के चौथे मुकाबले में राजस्थान रॉयल्स के विस्फोटक विकेटकीपर बल्लेबाज संजू सैमसन ने चेन्नई सुपर किंग्स के खिलाफ शानदार पारी खेली थी. सैमसन 32 गेंदों पर 74 रन रन बनाकर आउट हुए थे. इसके बाद सैमसन ने किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाफ अपनी तूफानी पारी में 7 छक्के जड़े थे.